Safar Shayari in Hindi | सफर शायरी हिंदी में

Safar Shayari in Hindi (Travel Shayari ) : सफर यानि यात्रा (Travel) जीवन भी एक अनोखा सफर है । किसी न किसी मंजिल की तलाश में हम सब सफर में हैं ।
यह खास सफर शायरी पोस्ट उन लोगों के लिए है जो सफर का मजा तो लेते ही हैं लेकिन वह शायरी के माद्यम से भी सफर का मजा लेना चाहते हैं ।
इस पोस्ट के माद्यम से हम आपके लिए बेहतरीन Safar Shayari in Hindi पेश कर रहें हैं । जिंदगी के सफर के बदलाव को शायरों ने कैसे व्यक्त किया है यह आप इस सफर शायरी को पढ़कर जान सकते हैं ।

Best Safar Shayari

माना की जिंदगी में गम बहुत है ,
कभी सफर पर निकलो और देखो खुशियां ।

Best Safar Shayari

 

दहशत सी होने लगी है इस सफर से,
अब तो ए-जिंदगी कहीं तो पहुँचा दे,
खत्म होने से पहले !

 

रस्ते कहाँ ख़त्म होते हैं जिंदगी के सफर में,
मंजिल भी वहीं है जहाँ ख्वाहिशें थम जाएँ ।

Best Safar Shayari

 

मंजिल बड़ी हो तो सफर में कारवां छूट जाता है,
मिलता है मुकाम तो सबका वहम टूट जाता है ।

 

इस सफर में नींद ऐसी खो गई,
हम न सोए रात थक कर सो गई ।

Best Safar Shayari

 

इन अजनबी सी राहों में जो तू मेरा,
हमसफ़र हो जाये बीत जाए पल भर में,
ये वक्त और हसीन सफर हो जाये !

 

मैं तो यूँ ही सफर पर निकला था,
एक अजनबी मिला और,
उसने अपना बना लिया !

Safar Shayari in Hindi

 

बहुत कुछ सिखाया जिंदगी के
सफर अनजाने ने,
वो किताबों में दर्ज था ही नहीं,
जो पढ़ाया सबक जमाने ने !

Travel Shayari in Hindi

चल वहीं ऐ दिल जहाँ हमसफर है मेरा ,
ये अजनबी रास्ते वो आखिरी सफर है तेरा !

Travel Shayari in Hindi

 

हमे तो पता था की तू कहीं,
और का मुसाफीर था,
हमारा शहर तो बस यूं ही तेरे,
रास्ते मैं आ गया था !

 

मायूस हो गया हूँ जिंदगी के सफर से,
कुछ इस कदर,
कि ना खुद से मिल पा रहा हूँ ना मंजिल से !

 

ना मंजिलों के लिए ना ही रास्तों के
लिए मेरा ये सफर है खुद से खुद की
पहचान के लिए !

Travel Shayari in Hindi

 

मैं लौटने के इरादे से जा रहा हूँ मगर,
सफर सफर है मिरा इंतिजार मत करना ।

 

इन अजनबी सी राहों में जो तू मेरा हमसफर हो जाये,
बीत जाए पल भर में ये वक्त और हसीन सफर हो जाये !

 

जिंदगी की तरह ये वादियां भी कितनी,
हसीन हैं आसमान नीला,
और जमीन रंगीन है !

Travel Shayari in Hindi

 

हर गाम हादसा है ठहर जाइए जनाब,
रस्ता अगर हो याद तो घर जाइए जनाब,
दिन का सफर तो कट गया सरज के साथ साथ,
अब शब की अंजुमन में बिखर जाइए जनाब !

 

अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं,
रुख हवाओं का जिधर का है उधर के हम हैं !

सफर शायरी हिंदी में

किसी को घर से निकलते ही मिल गई मंज़िल
कोई हमारी तरह उम्र भर सफ़र में रहा!

सफर शायरी हिंदी में

 

सफर से लौट जाना चाहता है,
परिंदा आशियाना चाहता है,
कोई स्कूल की घंटी बजा दे,
ये बच्चा मुस्कुराना चाहता है !

 

यू ही हाथ थाम मेरा साथ निभाना,
जिंदगी का सफर संग है तेरे बिताना!

सफर शायरी हिंदी में

 

वो जीवन में क्या आये बदल गयी जिंदगी हमारी,
वरना सफर ए-जिंदगी कट रही थी धीरे-धीरे !

 

जिंदगी की खूबसूरती देखना है,
तो कभी सफर पर निकलो !

सफर शायरी हिंदी में

 

अगर अपने आप से ऊब जाए तो,
जरूर सफर पर निकल जाय,
हो सकता है की आपकी जिंगदी संवर जाए !

 

अब जाना मैंने ज़िंदगी क्या है,
सफर में भी हूँ लेकिन जाना कहीं नहीं है !

 

ये तेरी संघर्ष कि जो कहानी है ये,
एक शानदार सफर कि कहानी है !

शायरी सफर की

कुछ सपने पुरे करने हैं,
कुछ मंजिलों से मिलना है,
अभी सफर सुरु हुआ है,
मुझे बहुत दूर तक चलना है !

शायरी सफर की हिंदी

 

अजीब सा सफर है ये ज़िंदगी,
मंजिल मिलती है मौत के बाद !

 

हम जितनी दुनिया देखते जाते है,
हमारी नजरिया का दायरा उतना ही,
बढ़ जाता है !

शायरी सफर की

 

अपनी मर्जी से कहां अपने सफर के हम हैं,
रुख हवाओं का जिधर का है उधर के हम हैं !

 

नफरत सी होने लगी है,
इस सफर से अब जिंदगी कहीं तो,
पहुँचा दे खत्म होने से पहले !

 

ना थके हैं कभी पैर,
ना कभी हिम्मत हारी है,
जज्बा है कुछ बनने का जिंदगी में,
इसलिये सफर जारी है !

जिंदगी का सफर शायरी

जिन्दगी के सफर में ये बात भी आम रही
की मोड़ तो आये कई मगर मंजिले गुमनाम रही !

jindagi ka safar shayari image

 

जिंदगी के सफर में हिंदी वाला सफर करते रहिये,
वर्ना अंग्रेजी वाला Suffer तो लगा ही रहेगा !

 

ज़िंदगी एक ऐसा सफर है,
जिसकी राह ही इसकी मंजिल है !

Safar Shayari Hindi Image

 

जिन्दगी से मौत तक के सफर को ही,
ज़िन्दगी कहते हैं !!

 

मैं तो यूँ ही सफर पर निकला था,
एक अजनबी मिला और उसने अपना बना लिया !

 

अजीब सी पहेलियां हैं मेरे हाथों की लकीरों में,
लिखा तो है सफर मगर मंजिल का निशान नहीं !

 

पांव जमीन पर थे आसमान नजर में रहा निकला था,
मंजिल के लिए लेकिन उम्र भर सफर में रहा !

 

रस्ते कहाँ खत्म होते हैं जिंदगी के सफर में,
मंजिल तो वही है जहां ख्वाहिशें थम जाएँ !

 

जिंदगी यूँ हुई बसर तन्हा,
काफीला साथ और सफ़र तन्हा !

 

जिन्दगी से मौत तक के सफर को ही,
जिन्दगी कहते हैं !

 

किसी को मंज़िल की भूख है,
तो किसी को पैसों की प्यास है,
पर सच कहूँ तो मेरे लिए ये सफर ही खास है !

 

जिंदगी यूँ हुई बसर तन्हा
काफिला साथ और सफर तन्हा !

 

मेरी हर मंजिल एक नए
सफर का आगाज होती है !

 

जिंदगी के इस सफर में रिश्तों का बोझ जितना कम हो,
सफर उतना आसान हो जाता है !

 

जिंदगी यूँ हुई बसर तन्हा,
काफीला साथ और सफर तन्हा !

 

तराश रहा हूं खुद को हर शब्द की नोक पर,
बोलबच्चन से लेखक तक का सफर जो तय करना हैं !

 

उम्मीद करते दोस्तों आपको हमारा यह Safar Shayari in Hindi पोस्ट पसंद आया होगा । यदि पसंद आया हो तो शेयर जरुर करें । और ऐसे और शायरी कोट्स स्टेटस के लिए हमारे साथ सोशल मिडिया Instagram Facebook पर भी जुढ़ सकते हैं ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here